हैप्‍पी रोमांटिग लाइफ के लिए self-compassion बहुत जरूरी, बेहतर पार्टनर बनने का ये है बेस्‍ट तरीका, अपना लें ये आदतें

0
4


हाइलाइट्स

दूसरों से खुद की तुलना ना करें.
टॉक्सिक माहौल से खुद का बचाएं.

रिश्तों में आत्म-करुणा: सेल्‍फ कंपैशन या आत्म करुणा का मतलब यह कतई नहीं कि आप लोगों के लिए सेल्फिश हैं या सिर्फ अपनी परवाह करते हैं. दरअसल, इस तरह की नकारात्‍मक भावनाएं ही इंसान को खुद के प्रति क्रुर बना देती है और वह अपनी छोटी सी छोटी गलतियों की वजह से खुद से ही नफरत कर बैठता है. खुद से चिढ़ने या खुद को हर वक्‍त कोसते रहने की वजह से आप अपनी मानसिक सेहत के साथ खिलवाड़ करने लगता है और इसका असर उसके बिहेव या बर्ताव में नजर आने लगता है.

लेकिन अगर आपको किसी से सच्‍ची मोहब्‍बत करनी है तो पहले खुद को माफ करना, खुद की इच्‍छाओं की कद्र करना और अपने प्रति सहानुभूति रखना सीखना होगा. इस तरह आप खुद से प्‍यार करेंगे और आपके अदंर दूसरों को प्‍यार करने के लिए सॉफ्टनेस बनी रहेगी.

विशेषज्ञों का क्‍या है कहना
न्‍यूरोसाइंसन्‍यूज के मुताबिक, शोधों में पाया गया कि जब कपल्‍स में एक पार्टनर किसी बात को लेकर खुद का कष्‍ट देता है या मानसिक रूप से सफर करता है तो इसका असर दूसरे पार्टनर की मानसिकता पर भी बुरा असर डालता है.

कैसे पड़ता है असर
दरअसल, आत्म करुणा में आप अपने साथ साथ दूसरे की इच्‍छाओं का भी सम्‍मान करना चाहते हैं. जब आप खुश रहते हैं तो आप बेहतर तरीके से दूसरे की इच्‍छाओं को महसूस कर पाते हैं और आप किसी के बारे में दिल से सोच पाते हैं. इस तरह रोमांस अपने पीक पर बना रहता है.

इसे भी पढ़ें :मजबूत रिश्‍ते की पहचान है Respect, आपका पार्टनर कितना करता है इज्‍जत, 5 संकेतों से लगाएं पता

आत्म करुणा के लिए अपनाएं ये आदतें
-दूसरों से खुद की तुलना ना करें.
-दूसरों की सोच की परवाह ना करें.
-गलतियां किसी भी इंसान से हो सकती है.
-खुद की वैल्‍यू को समझें और इज्‍जत दें.
-टॉक्सिक माहौल से खुद का बचाएं.
-डर का सामना करें और खुद पर भरोसा करें.
-खुद के लिए उदार और दयावान बनें.

इसे भी पढ़ें :बचकानी हरकतों से टूट जाते हैं मजबूत से मजबूत रिश्‍ते, जानें रिलेशनशिप में किस तरह दिखाएं इमोशनल मैच्योरिटी

टैग: जीवन शैली, संबंध

Leave a reply