Reliance; Market Capitalization 2024 Update | TCS Infosys SBI Bank | TCS का मार्केट-कैप एक हफ्ते में ₹1.10 लाख करोड़ गिरा: देश की टॉप-10 कंपनियों में से 5 की वैल्यू ₹1.98 लाख करोड़ गिरी; रिलायंस टॉप गेनर

0
5

[ad_1]

मुंबई10 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

मार्केट कैपिटलाइजेशन के लिहाज से देश की दूसरी सबसे बड़ी कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (TCS) का मार्केट कैप पिछले हफ्ते ₹1,10,134.58 करोड़ गिरा है। अब कंपनी का मार्केट कैप ₹14.16 लाख करोड़ रह गया है। एक हफ्ते पहले यह ₹15.26 लाख करोड़ था।

इस दौरान देश की टॉप-10 कंपनियों में से 5 की वैल्यूएशन में कंबाइन रूप से ₹1.98 लाख करोड़ की गिरावट आई। TCS के अलावा टेक कंपनी इंफोसिस और FMCG हिंदुस्तान यूनिलीवर के मार्केट कैप में इस दौरान ₹52,291.05 करोड़ और ₹16,834.82 करोड़ की कमी आई है।

वहीं, वैल्यूएशन के हिसाब से सबसे बड़ी कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड का मार्केट कैप इस एक हफ्ते में ₹49,152.89 करोड़ बढ़कर ₹19.69 लाख करोड़ हो गया है। इसके अलावा, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI), ITC, भारती एयरटेल और ICICI बैंक के मार्केट कैपिटलाइजेशन ने बढ़ोतरी हुई है।

पिछले हफ्ते सेंसेक्स में 188.51 अंकों की तेजी रही थी
पिछले हफ्ते सेंसेक्स में 188.51 पॉइंट्स या 0.25% की तेजी रही थी। वहीं, हफ्ते के आखिरी कारोबारी दिन यानी शुक्रवार 22 मार्च को सेंसेक्स 190 अंक की बढ़कर 72,831 के स्तर पर बंद हुआ। वहीं, निफ्टी में भी 84 अंक की तेजी रही, ये 22,096 के स्तर पर बंद हुआ। सेंसेक्स के 30 शेयरों में से 21 में तेजी और 9 में गिरावट देखने को मिली थी।

मार्केट कैपिटलाइजेशन क्या होता है?
मार्केट कैप किसी भी कंपनी के टोटल आउटस्टैंडिंग शेयरों यानी वे सभी शेयर, जो फिलहाल उसके शेयरहोल्डर्स के पास हैं, की वैल्यू है। इसका कैलकुलेशन कंपनी के जारी शेयरों की टोटस नंबर को स्टॉक की प्राइस से गुणा करके किया जाता है।

मार्केट कैप का इस्तेमाल कंपनियों के शेयरों को कैटेगराइज करने के लिए किया जाता है ताकि निवेशकों को उनके रिस्क प्रोफाइल के अनुसार उन्हें चुनने में मदद मिले। जैसे लार्ज कैप, मिड कैप और स्मॉल कैप कंपनियां।

मार्केट कैप = (आउटस्टैंडिंग शेयरों की संख्या) x (शेयरों की कीमत)

मार्केट कैप कैसे काम आता है?
किसी कंपनी के शेयर में मुनाफा मिलेगा या नहीं इसका अनुमान कई फैक्टर्स को देख कर लगाया जाता है। इनमें से एक फैक्टर मार्केट कैप भी होता है। निवेशक मार्केट कैप को देखकर पता लगा सकते हैं कि कंपनी कितनी बड़ी है।

कंपनी का मार्केट कैप जितना ज्यादा होता है उसे उतनी ही अच्छी कंपनी माना जाता है। डिमांड और सप्लाई के अनुसार स्टॉक की कीमतें बढ़ती और घटती है। इसलिए मार्केट कैप उस कंपनी की पब्लिक पर्सीवड वैल्यू होती है।

मार्केट कैप कैसे घटता-बढ़ता है?
मार्केट कैप के फॉर्मूले से साफ है कि कंपनी की जारी शेयरों की कुल संख्या को स्टॉक की कीमत से गुणा करके इसे निकाला जाता है। यानी अगर शेयर का भाव बढ़ेगा तो मार्केट कैप भी बढ़ेगा और शेयर का भाव घटेगा तो मार्केट कैप भी घटेगा।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Leave a reply