International olampiyard  – News18 हिंदी

0
2


शशिकांत ओझा/ पलामू. कहते है कि मेहनत करने वालों की कभी हार नहीं होती है. शिद्दत से तैयारी करने वालों की किस्मत भी साथ देती है. जरूरत है तो बस सही दिशा में लगन से काम करने की है. इस बाद को साबित किया है. पलामू जिले के रहने वाले अश्मित सम्राट ने दिया. साइंस ओलंपियाड फाउंडेशन द्वारा आयोजित नेशनल साइंस ओलंपियाड में जोनल रैंक पांच लाया है. यह रैंक उसे लेवल 2 के परीक्षा के बाद आया है.वहीं अश्मित ने लेवल 1 की परीक्षा में इंटरनेशनल रैंक 1 लाया था.

साइंस ओलंपियाड फाउंडेशन एक गैर लाभकारी संस्था है. जो क्लास 1 से 12 वीं तक के बच्चो की प्रतिभा को स्थान देता है. इसके द्वारा स्‍कूली बच्‍चों के बीच जी के, साइंस, मैथ्‍स, कंप्‍यूटर और खेल को बढ़ावा देने हेतु स्कॉलरशिप देता है. इसमें विश्व के 140 देश के छात्र भाग लेते है. इस स्‍कॉलरशिप के लिए चुनी गई हर विद्यार्थियों को निश्चित राशि भी दी जाती है. डेडीकेटेड प्रीमियर स्कूल की प्रिंसिपल स्वेता कुमारी ने कहा कि क्लास 7 से उनके स्कूल द्वारा चार छात्रों का चयन लेवल 2 की परीक्षा के लिए हुआ था.यह परीक्षा दिसंबर में आयोजित हुई थी. इसमें केवल अश्मित सम्राट ने ही गोल्ड मेडल लाया है.उन्होंने कहा की अश्मित सम्राट 99.79 परसेंटाइल लाकर जिले का नाम रौशन किया है. इसमें उसका जोनल रैंक 5 है.जो की चार राज्यों में पांचवां रैंक है.उन्होंने बताया की अश्मित मैथ और साइंस ओलंपियाड के लेबल 2 परीक्षा में हिस्सा लिया.जिसमें मैथ में इंटरनेशनल रैंक 97 और साइंस में इंटरनेशनल रैंक 52 प्राप्त हुआ है.

तीन घंटे घर पर करता था पढ़ाई
अश्मित सम्राट ने कहा कि  इसके लिए वो घर में तीन घंटे पढ़ाई करता था. इसके लिए एक खास विषय की तरह पढ़ाई करनी पड़ती है. इसके क्वेश्चन काफी कठिन होते है.  तिथि के निकलने के बाद उन्हें एक। महीने का समय मिला था. जिसके लिए वो खास तरह से 3 घंटे तैयारी करते थे. इसके लिए वो अपने पिता का मदद लेते थे. जिससे उन्हें सफलता मिली है.उन्होंने बताया की उनके पिता का नाम इंजिनियर विनय मेहता है.जो की पलामू के जाने माने शिक्षाविद में से एक है.उन्होंने कहा की मेहनत में थोड़ी कमी रही.जिस कारण वो रैंक नहीं आया जिसकी चाहत थी.लेकिन भविष्य में वो आई ए एस बनना चाहते है.

विश्व के बड़े शिक्षण संस्थान में होता है सीधा नामांकन
स्वेता सिंह ने बताया कि इस तरह के ओलांपियर में रैंक लाने वाले छात्रों को से ग्लोबल प्राइड एंड ऑनर मिलता है और प्रतिभा की पहचान बढ़ती है. इसके साथ साथ इंटरनेशनल लेवल के किसी भी शिक्षण संस्था की बड़े से बड़े के सिलेबस की जनकारीचों जाती है. इस ओलांपियार्ड में गोल्ड मेडल पाने वाले छात्र को स्कॉलरशिप के साथ बड़े बड़े शिक्षण संस्थान में सीधा नामांकन हो जाता है. इसके अलावा सरकार द्वारा दसवीं के छात्रों के लिए आयोजित होने वाला नेशनल टेलेंट सर्च एग्जामाइनेशन को क्लियर करना आसान हो जाता है.जिसके बाद छात्र के पढ़ाई का पूरा खर्चा सरकार देती है.

टैग: शिक्षा, झारखंड समाचार, ताज़ा हिन्दी समाचार, स्थानीय18, बेर समाचार

Leave a reply