होली में केमिकल रंगों से हो सकते हैं ये बड़े नुकसान, स्किन कैंसर का बढ़ा देता है जोखिम – News18 हिंदी

0
6

[ad_1]

होली के रंग के दुष्प्रभाव: इस बार 25 मार्च को होली मनाई जाएगी. होली रंगों में डूब जाने का त्योहार है. इस त्योहार का मकसद अपने और दूसरों के जीवन में खुशियों के रंग भरना है. मेल-जोल, खाना-पीना और मस्ती हुड़दंग पूरे माहौल को आनंद से भर देता है. ये मौसम ही कुछ ऐसा होता है कि होली के रंग से सराबोर होने को जी करता है, लेकिन कई बार होली के रंग कुछ नुकसान भी पहुंचा देते हैं. त्वचा, बालों के साथ आंखों, कान, कई अंगों के लिए खतरनाक होते हैं. ऐसे में कोशिश करनी चाहिए कि अधिक केमिकल युक्त रंगों के इस्तेमाल से बचें. घर में बना गुलाल, रंग या फिर मार्केट से हर्बल रंग खरीद कर ही होली की मस्ती में पूरी तरह से डूबना बेहतर है.

अभिवृत एस्थेटिक्स नई दिल्ली के सीओ संस्थापक और त्वचाविज्ञान विशेषज्ञ डॉ. जतिन मित्तल कहते हैं कि आजकल कई तरह के उद्योग रसायनों जैसे डीजल, इंजन आयल, ग्लास पाउडर, एसिड, क्षार आदि का उपयोग होली के रंग बनाने में अत्यधिक इस्तेमाल किया जाने लगा है जो बालों, त्वचा के साथ ही शरीर के कई अंगों को भी नुकसान पहुंचा सकते हैं.

इसे भी पढ़ें: Holi Hair Care: होली खेलने के बाद बाल हो गए हैं पीले-लाल, रंग छुड़ाने के लिए 6 देसी नुस्खों को आजमाएं, दोबारा आएगी बालों में जान

रासायनिक रंग त्वचा के कैंसर को दे सकते हैं न्योता
रंगों में मौजूद केमिकल आपकी जिंदगी को बेरंग कर सकते हैं. इनका अधिक इस्तेमाल करना बिल्कुल भी ठीक नहीं है. रोहतक स्थित पॉज़िट्रान सुपरस्पेशलिटी एवं कैंसर हॉस्पिटल के सीनियर मेडिकल ऑन्कोलॉजिस्ट डॉ. मनीष शर्मा न्यूज18 हिंदी से बात करते हुए बताते हैं कि गीले रासायनिक रंगों में ग्रीन कॉपर सल्फेट, मरक्यूरी सल्फेट, क्रोमियम जैसे अकार्बनिक और बेन्जीन जैसे घातक एरोमैटिक कम्पाउंड्स होते हैं. उन्होंने बताया कि कुछ रंग अत्यधिक विषैले होते हैं और कैंसर का कारण भी बन सकते हैं. जो लोग रंग खेलते हैं या होली खेलते हैं, उन्हें अक्सर कंजंक्टिवाइटिस, अस्थमा और हार्श, ड्राई त्वचा होने की शिकायत होती है. सिल्वर रंग में मौजूद एल्युमीनियम ब्रोमाइड व लाल रंग में मौजूद मरक्यूरी सल्फाइड त्वचा के कैंसर का कारण बन सकते हैं. इसके साथ-साथ रूखापन, हल्की खारिश, जलन, चकत्ते, एलर्जिक डर्मेटाइटिस, कई मामलों में त्वचा झुलस भी जाती है. ऐसी स्थिति में केमिकल्स में मौजूद महीन तत्व त्वचा में दाखिल होकर स्किन कैंसर का भी कारण बन सकते हैं.

Holi Skin Care: होली खेलने के बाद न हटे जिद्दी रंग तो एक्सपर्ट के बताए इन 5 उपायों को आजमाकर देखें, स्किन रहेगी हेल्दी, स्मूद

हर्बल रंगों का करें इस्तेमाल
डॉ. मनीष के अनुसार, इन तमाम तरह की परेशानियों और बीमारियों से बचने के लिए बेहतर है कि आप हर्बल रंगों से ही होली खेलें. रसायनिक रंगों का इस्तेमाल बिल्कुल न करें. चमकीले पेंट, कीचड़ या ग्रीस से होली न खेलें. कान, मुंह और आखों में रंग जाने पर तुरंत साफ करें. त्वचा को रंगों के सीधे प्रभाव से बचाएं.

टैग: कैंसर, स्वास्थ्य, होली, होली उत्सव, जीवन शैली, त्वचा की देखभाल

[ad_2]

Leave a reply