Tuesday, April 16

होली पर पी जाते हैं 5-6 गिलास भांग तो हार्ट बीट, ब्लड प्रेशर हो जाएगा हाई, सोना होगा दुश्वार, प्रेग्नेंट हैं तो न करें ये गलती

0
1


भांग के दुष्प्रभाव: होली 25 मार्च को धूमधाम से मनाने के लिए लोग बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं. रंगों के इस त्योहार में लोग जमकर एक-दूसरे को रंग और गुलाल लगाते हैं. तरह-तरह के पकवान बनाए जाते हैं. गुझिया का जमकर सेवन करते हैं. इसके साथ ही एक और ऐसी चीज है, जिसके बिना होली लोगों को अधूरी लगती है. वह है भांग. काफी लोग होली के दिन भांग जरूर पीते हैं. हालांकि, कई बार होली पर भांग का अधिक सेवन रंग में भंग डाल देता है. जिस तरह से रासायनिक रंगों के सेहत पर नुकसान होते हैं, ठीक उसी तरह से साथ भांग और नकली मेवे का सेवन भी है सेहत के लिए हानिकारक है.

भांग कैसे है सेहत के लिए नुकसानदायक (Bhang ke Nuksan)

भांग का सेवन बहुत ज्यादा खतरनाक होता है. भांग का सेवन करने वालों में यूफोरिया, एंजाइटी, याददाश्त का असंतुलित होना, साइकोमोटर परफार्मेंस जैसी समस्याएं पैदा हो जाती हैं. एक शोध के अनुसार, यदि कोई व्यक्ति 15 वर्ष से भांग का सेवन करने लगता है तो 26 वर्ष तक की आयु में उसमें मानसिक विकार होने की संभावना 4 गुना ज्यादा बढ़ जाती है.

नई दिल्ली व वृन्दावन स्तिथ मदर्स लैप आईवीएफ सेंटर की स्त्री रोग विशेषयज्ञ व इनफर्टिलिटी स्पेशलिस्ट डॉ. शोभा गुप्ता ने न्यूज18 से बात करते हुए बताया कि महिलाओं में भांग के सेवन से उनके मां बनने की छमता पर बहुत बुरा असर पड़ सकता है. खासकर गर्भवती महिलाओं द्वारा भांग का सेवन करने से इसका असर भ्रूण पर पड़ता है. भांग का उपयोग करने से भूख कम लगती है, नींद कम आती है, वजन घट सकता है, चिड़चिड़ापन, आक्रामकता, बेचैनी और क्रोध बढ़ना जैसे लक्षण शुरू हो सकते हैं. ऐसे में होली के दिन ठंडाई में भांग मिलाकर पीने से बचें.

इसे भी पढ़ें: Holi Colors Side Effects: होली में केमिकल रंगों से हो सकते हैं ये बड़े नुकसान, स्किन कैंसर का बढ़ा देता है जोखिम

डॉ. शोभा गुप्ता ने बताया कि कुछ लोगों में भांग का सेवन करने से हृदय गति, ब्लड प्रेशर में बदलाव के कारण हृदय संबंधी बीमारी के गंभीर परिणाम सामने आते हैं. इसका क्रोनिक प्रभाव दिमाग पर पड़ने के साथ ही ड्रग की तरह लत भी लग सकती है. भांग से यूटेरो में उल्टा असर हो सकता है और इसकी वजह से मस्तिष्क के विकास में गड़बड़ी संभव है.

कम उम्र के लोगों में इसका असर वयस्कों की तुलना में कहीं ज्यादा होता है. भांग के रासायनिक यौगिक आंख, कान, त्वचा और पेट को प्रभावित करते हैं. इसके साथ-साथ डॉ. शोभा गुप्ता बताती हैं कि गर्भवती महिलाओं को होली के केमिकल युक्त रंगो से भी दूर रहना चाहिए. फिर भी होली खेलनी है तो कोशिश करें कि हर्बल रंगों से ही होली खेलें. आप चाहें तो घर पर हर्बल रंग तैयार कर सकती हैं. रसायनिक रंगों से आपके साथ-साथ आपके बच्चे को भी नुकसान पंहुच सकता है.

भांग के सेवन के अन्य दुष्प्रभाव (Side effects of bhang)

· भांग के सेवन के बाद एक ही व्याक्ति को अपने मन की स्थितियों या परिस्थितियों के अनुसार प्रिय या अप्रिय प्रभाव महसूस हो सकते हैं.

· छात्रों द्वारा प्रयोग करने पर पढ़ाई के दौरान ध्यान केंद्रित करने में दिक्कत महसूस होती है.

· काम के दौरान भांग का सेवन करने से दिन में सपने देखने की संभावना ज्यादा होती है, जिससे कामकाज पर प्रभाव पड़ सकता है.

· भांग के नियमित उपयोग से साइकोटिक एपिसोड या सीजोफ्रेनिया होने का खतरा दोगुना हो सकता है.

· होली के दिन भांग मिला ठंडाई बहुत अधिक पीने से भूख में कमी, नींद आने में दिक्कत, वजन घटना, चिड़चिड़ापन, बेचैनी और क्रोघ बढ़ना जैसे लक्षण नजर आ सकते हैं.

· भांग के सेवन से घबराहट, अत्यधिक चिंता, उल्टी और अधिक खाने की इच्छा भी हो सकती है.

टैग: स्वास्थ्य, होली, होली उत्सव, जीवन शैली

Leave a reply