व्यवसाय की सफलता की कहानी: मिलिए इस छोटे शहर के व्यक्ति से जिसने एक विशाल विज्ञापन साम्राज्य का निर्माण करके 7 अरब रुपये की विरासत छोड़ी | कंपनी समाचार

0
8

[ad_1]

नई दिल्ली: MUDRA (मार्केटिंग एंड डेवलपमेंट रिसर्च एसोसिएट्स) और MICA (मुद्रा इंस्टीट्यूट ऑफ कम्युनिकेशंस, अहमदाबाद) के प्रसिद्ध संस्थापक एजी कृष्णमूर्ति का जन्म भारत में एक मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ था। बड़े होकर, उन्होंने अपने माता-पिता से कड़ी मेहनत, दृढ़ता और नवीनता के मूल्यों को ग्रहण किया, जिससे उनके भविष्य के प्रयासों की नींव पड़ी।

प्रारंभिक जीवन:

1942 में आंध्र प्रदेश के विनुकोंडा में जन्मे एजी कृष्णमूर्ति, जिन्हें प्यार से एजीके के नाम से जाना जाता है, किसी विशेषाधिकार प्राप्त पृष्ठभूमि से नहीं आते थे। उन्होंने शुरुआत में ही जीवन बदलने वाला विकल्प चुना और अहमदाबाद में अवसरों की तलाश में हैदराबाद की एक सुरक्षित सरकारी नौकरी छोड़ दी। इस निर्णय ने विज्ञापन जगत में उनकी उल्लेखनीय यात्रा के लिए मंच तैयार किया। कृष्णमूर्ति ने अपनी पेशेवर यात्रा एक विज्ञापन एजेंसी के साथ शुरू की, जहां उनकी जन्मजात प्रतिभा और रणनीतिक कौशल ने उन्हें तेजी से आगे बढ़ाया। उनके समर्पण और रणनीतिक सोच ने ध्यान आकर्षित किया, जिससे उन्हें उद्योग के भीतर बढ़ती ज़िम्मेदारी की भूमिकाएँ निभानी पड़ीं।

मुद्रा का निर्माण:

भारत में विज्ञापन परिदृश्य में क्रांति लाने के दृष्टिकोण से प्रेरित होकर, कृष्णमूर्ति ने MUDRA की स्थापना की। रचनात्मकता को व्यावसायिक कौशल के साथ मिलाने पर ध्यान देने के साथ, मुद्रा ने अपने नवोन्मेषी अभियानों और रणनीतिक अंतर्दृष्टि के लिए तेजी से पहचान हासिल की। कृष्णमूर्ति के नेतृत्व और दूरदर्शिता ने मुद्रा को देश की सबसे प्रमुख विज्ञापन एजेंसियों में से एक बना दिया।

अभ्रक:

संचार के क्षेत्र में विशेष शिक्षा की आवश्यकता को पहचानते हुए कृष्णमूर्ति ने MICA की स्थापना की। संस्थान का उद्देश्य प्रतिभा का पोषण करना और विज्ञापन और संचार में उद्योग-प्रासंगिक शिक्षा प्रदान करना है। उनके मार्गदर्शन में, MICA फला-फूला और एक प्रमुख संस्थान बन गया जो इस क्षेत्र में शीर्ष पायदान के पेशेवरों को तैयार करने के लिए जाना जाता है।

नवाचार और योगदान:

विज्ञापन और संचार के प्रति कृष्णमूर्ति के अभिनव दृष्टिकोण ने उद्योग परिदृश्य को नया आकार दिया। उन्होंने अभूतपूर्व रणनीतियाँ और तकनीकें पेश कीं जिन्होंने उद्योग के लिए नए मानक स्थापित किए। उनके योगदान ने न केवल MUDRA और MICA को ऊपर उठाया बल्कि भारत में पूरे विज्ञापन पारिस्थितिकी तंत्र को भी प्रभावित किया।

परंपरा:

एजी कृष्णमूर्ति की विरासत उनके द्वारा स्थापित कंपनियों से कहीं आगे तक फैली हुई है। उन्होंने अपने दूरदर्शी नेतृत्व और उत्कृष्टता के प्रति अटूट प्रतिबद्धता से विज्ञापन पेशेवरों की पीढ़ियों को प्रेरित किया। उद्योग पर उनका प्रभाव आज भी महसूस किया जा रहा है, उनके सिद्धांत आज भी आकांक्षी विपणक और संचारकों का मार्गदर्शन कर रहे हैं।

MUDRA और MICA के माध्यम से, उन्होंने न केवल भारत में विज्ञापन परिदृश्य को बदल दिया, बल्कि वैश्विक उद्योग पर भी एक अमिट छाप छोड़ी। उनकी कहानी महत्वाकांक्षी उद्यमियों और संचारकों के लिए प्रेरणा का काम करती है, उन्हें याद दिलाती है कि दृढ़ संकल्प और दूरदर्शिता के साथ कुछ भी संभव है।

[ad_2]

Leave a reply