महाराष्ट्र के इस बाहुबली की है इतनी डिमांड, घर लाने को उत्सुक हैं लोग, जानिए कितनी हो रही है आवक- News18 हिंदी

0
2

[ad_1]

पीयूष पाठक/अलवर. गर्मी की आहट के साथ ही गर्मियों में चलने वाले फलों की आवक अलवर फल मंडी में होने लगी है. गर्मियों के पसंदीदा फलों में से एक तरबूज जो कि अभी महाराष्ट्र व बेंगलुरु से अलवर फल मंडी में पहुंच रहा है. अभी अलवर में महाराष्ट्र के नांदेड़, बीड, शोलापुर और बेंगलुरु के तरबूज की आवक खूब हो रही है. हालांकि, अभी तरबूज की शुरुआत है, इस कारण भाव भी करीब 30 रुपए प्रति किलोग्राम तक है. लेकिन जैसे-जैसे गर्मी बढ़ेगी तरबूज की आवक भी ज्यादा होगी और भाव में भी कमी आएगी.

गर्मी के फल में लोगों की पसंद महाराष्ट्र , कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, पंजाब और राजस्थान के तरबूज की रहती है. शुरुआती दौर में महाराष्ट्र में तरबूज की पैदावार होती है. इसलिए अभी महाराष्ट्र व कर्नाटक से तरबूज की आवक हो रही है. इन दोनों प्रदेशों का तरबूज अभी एक महीने चलेगा. मार्च के बाद राजस्थान के तरबूज की आवक शुरू हो जाएगी. अप्रैल के बाद उत्तर प्रदेश के तरबूज की आवक शुरू हो जाती है, जो कि एक महीने तक चलता है. मई महीने में पंजाब के तरबूज की आवक शुरू हो जाती है. पंजाब का तरबूज दो महीने चलता है.

बाहुबली तरबूज का जवाब नहीं
तरबूज के विक्रेता दीन मोहम्मद बताते है कि वह करीब 12 साल से फल मंडी में काम कर रहे है. उनके अनुसार सबसे अच्छा तरबूज महाराष्ट्र का बाहुबली वैरायटी का तरबूज होता है. यह खाने में मीठा व स्वादिष्ट होता है, इसे दुकान में 10 से 15 दिन तक रखा जा सकता है. तरबूज की शुरुआत बाहुबली तरबूज से ही होती है. राजस्थान का तरबूज इतना मीठा नहीं होता. इसका कारण है कि यहां पानी की कमी है. दीन मोहम्मद का कहना है कि तरबूज में करीब 70 वैराटियां होती हैं. सबसे अच्छी वैरायटी के बाहुबली के नाम से जाना जाता है. इसका साइज 5 किलो से लेकर 11 किलो तक होता है. वहीं, राजस्थान का तरबूज महंगा होता है. वह 25 से 30 रुपए प्रति किलो तक मिलता है. इसकी आवक अप्रैल माह में शुरू होती है. अभी अलवर मंडी में 280 क्विंटल तरबूज की रोजाना आवक हो रही है.

यह भी पढ़ें- बिहार के लाल का कमाल! 15 साल की उम्र में खड़ी की 56 स्टार्टअप कंपनियां, बने वर्ल्ड यंगेस्ट CEO

सेहत के लिए फायदेमंद
आयुर्वेदिक विशेषज्ञ रामदेव ने बताया कि तरबूज कई पोषक तत्वों से भरपूर होता है. इसमें 90% पानी के साथ ही प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, मैग्नीशियम, फास्फोरस, आयरन, सोडियम और जिंक के साथ ही कई तरह के विटामिन मौजूद रहते हैं. विशेषज्ञों की सलाह से लोग ब्रेकफास्ट में भी तरबूज को खाना पसंद करते हैं. तरबूज हृदय, पेट संबंधित, कैंसर, मांसपेशियां, नेत्र रोग, मधुमेह हीट स्ट्रोक सहित कई बीमारियों में लाभदायक है. तरबूज के विक्रेता दीन मोहम्मद ने बताया कि रमजान के चलते भी तरबूज की कीमतों में वृद्धि हुई है. इसका कारण है कि रमजान माह के चलते मुस्लिम समुदाय के लोग रोजा करते हैं. सहरी व इफ्तारी पार्टियों में लोग एक साथ ही फलों को खरीदते हैं. हालांकि, जैसे-जैसे आवक और बढ़ेगी वैसे कीमतों में कमी आएगी.

टैग: अलवर समाचार, खाना, फल, स्थानीय18, राजस्थान समाचार

[ad_2]

Leave a reply