भोजपुर में धूम मचा रहा है दुबई का चिकन मलाई टिक्का, लोगों को भा रहा तीन भाईयों का स्टार्टअप

0
2

[ad_1]

गौरव सिंह/भोजपुर: चिकन तो आपने बहुत खाया होगा. पर चिकन मलाई टिक्का वो भी दुबई स्टाइल वाला नहीं खाया होगा. इसके लिए आपको भोजपुर आना होगा. यहां पर एक स्टार्टअप पापाज कैफे खोला गया है. इसको खोने वाले तीन भाई हैं. इसमें एक एमबीए कर 12 साल दुबई में नौकरी की. फिर अपने इंजीनियर भाई के साथ यह स्टार्टअप खोला है. महज कुछ महीना पहले किया गया स्टार्टअप बहुत कम समय में ही लोगों कीजुबान पर चढ़ चुका है. कीमत अन्य जगहों से कम रखने के कारणआरा के मिल्की मुहल्ला में लोगों की भीड़ जुटती है.

दोनों भाई के अंदर छुपा था शेफ
तीनों भाई नादिर कमाल (दुबई रिटर्न), मो.अर्ज्म (सिविल इंजीनियर) और मो.अंबर ने एक साथ मिलकर इस स्टार्टअप को शुरू किया है. इसमें नादिर एमबीए कर के दुबई में अच्छे पद पर 12 साल नौकरी कर चुके हैं. इसके अलावा मो. अजर्म सिविल इंजीनियरिंग कर नौकरी करते थे, लेकिन दोनों भाई के अंदर एक शेफ छुपा हुआ था. जिस वजह से खाने की चीजों का स्टार्टअप इन दोनों के द्वारा किया गया. इनका सहयोग बड़े भाई मो.अंबर के द्वारा किया गया.

ऐसे शुरू हुई इनकी कहानी
दुबई रिटर्न नादिर कामिल ने बताया कि 12 साल से गल्फ देशों में अलग-अलग जगहों पर नौकरी की. ज्यादा समय दुबई में बिता. वहां छुट्टी के दिनों में स्थानीय लोगों की मदद से पार्टी करते थे. वहां पार पार्टी में चिकन मलाई टिक्का बनाया जाता था. वहां का स्वाद भारतीय मलाई टिक्का से एकदम अलग है.

स्वाद की वजह से हमने भी बनाना सीखा. इस वजह से हम चाहते थे कि इस स्वाद को अपनी जन्मभूमि तक ले जायंगे. इसके अलावा मो.अजर्म सिविल इंजीनियर है, लेकिन उसे भी कुकिंग बहुत पसंद है. जिस वजह से हमने तय किया कि नौकरी छोड़ खुद का स्टार्टअप किया जाय. दुबई के चिकेन मलाई टिक्का के स्वाद को आरा ले जाया जाए. फिर क्या था भोजपुर में यहां हमने इसको शुरू किया. शुरू करते ही लोगों की जुबान पर इसका स्वाद चढ़ चुका है.

महज 100 रुपया में लें आनंद
पापाज कैफे में पिज्जा, बर्गर, पेस्ट्री मिलती है. लेकिन खास तौर पर चिकन मलाई टिक्का, तंदूरी टिक्का और रोस्टेड मुर्ग मुसलम को ज्यादा तरजीह दी जाती है. इनकी कीमत प्रति सीक 100 रुपया है. एक सीक में 200 ग्राम चिकन होता है. आम तौर पर यहां सिर्फ कवाब के लिए 20 से 25 किलो चिकन हर दिन प्रयोग हो रहा है. इसकी शुरुआत जब हुई थी तो महज 3 से 4 किलो चिकेन से शुरुआत हुई थी, आज ये 20 से 25 किलो तक पहुंच चुका है. आने वाले रमजान महीने में उम्मीद है कि खपत दोगुनी हो जाएगी.

टैग: Bhojpur news, बिहार के समाचार, भोजन 18, स्थानीय18

[ad_2]

Leave a reply