HomeLIFESTYLEपृथ्वी को क्षुद्रग्रहों से बचाना: वैश्विक मिशन का हिस्सा बनना चाहता है...

पृथ्वी को क्षुद्रग्रहों से बचाना: वैश्विक मिशन का हिस्सा बनना चाहता है भारत: इसरो प्रमुख | भारत समाचार



बेंगलुरु: इसरो अध्यक्ष एस सोमनाथ ने इस बात पर जोर दिया कि कोई भी देश अकेले ऐसा नहीं कर सकता। ग्रह सुरक्षा सिस्टम के खिलाफ क्षुद्र ग्रहने बुधवार को कहा कि भारत भी बड़े व्यापार समझौते का हिस्सा बनना चाहता है और इसके लिए योग्य भी है। वैश्विक मिशन जो क्षुद्रग्रहों का अध्ययन करते हैं।
बेंगलुरु में अपने मुख्यालय में छात्रों के लिए ग्रहों की सुरक्षा पर इसरो की पहली कार्यशाला में बोलते हुए, उन्होंने संभावित क्षुद्रग्रहों के प्रभाव से पृथ्वी की रक्षा करने में अंतर्राष्ट्रीय सहयोग की आवश्यकता पर जोर दिया। उन्होंने बताया कि क्षुद्रग्रह पृथ्वी के लिए संभावित खतरा तो हैं ही, साथ ही वे वैज्ञानिक अन्वेषण के लिए मूल्यवान अवसर भी प्रदान करते हैं। उन्होंने कहा कि क्षुद्रग्रहों का अध्ययन ब्रह्मांड के निर्माण और पृथ्वी पर जीवन की उत्पत्ति के बारे में जानकारी प्रदान कर सकता है।
सोमनाथ ने वैश्विक क्षुद्रग्रह अनुसंधान और रक्षा पहलों में भाग लेने में भारत की रुचि व्यक्त की। उन्होंने सुझाव दिया कि इसरो आगामी अंतर्राष्ट्रीय मिशनों में योगदान दे सकता है, जैसे कि 2029 में क्षुद्रग्रह अपोफिस का अध्ययन करने की योजना बनाई गई है। उन्होंने प्रस्ताव दिया कि भारत नासा, ईएसए और जेएक्सए जैसी अंतरिक्ष एजेंसियों के नेतृत्व वाले संयुक्त मिशनों को उपकरण या अन्य सहायता प्रदान कर सकता है।
अंतरिक्ष अन्वेषण में भारत की बढ़ती क्षमताओं पर प्रकाश डालते हुए सोमनाथ ने चंद्रयान-3 और आदित्य-एल1 सौर वेधशाला मिशन जैसी हाल की उपलब्धियों का हवाला दिया। उन्होंने विशेष रूप से आदित्य-एल1 को लैग्रेंज बिंदु एल1 के चारों ओर अपनी हेलो कक्षा में सफलतापूर्वक स्थापित करने का उल्लेख किया, जो जटिल अंतरिक्ष युद्धाभ्यासों को अंजाम देने की भारत की क्षमता को दर्शाता है।
इसरो के चेयरमैन ने इस बात पर जोर दिया कि ये उपलब्धियां संभावित क्षुद्रग्रह अन्वेषण सहित अधिक चुनौतीपूर्ण मिशनों को पूरा करने के लिए भारत की तत्परता को दर्शाती हैं। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि सटीक अंतरिक्ष यान नेविगेशन और कैप्चर जैसे क्षेत्रों में भारत की विशेषज्ञता भविष्य के क्षुद्रग्रह-संबंधी प्रयासों में मूल्यवान हो सकती है।
सोमनाथ ने संभावित क्षुद्रग्रह खतरों के लिए तैयारी के महत्व पर जोर देते हुए निष्कर्ष निकाला, भले ही वे सदियों तक साकार न हों। उन्होंने खतरनाक क्षुद्रग्रहों का पता लगाने और उन्हें विक्षेपित करने की मानवता की क्षमता को बढ़ाने के लिए अनुसंधान, प्रौद्योगिकी विकास और अंतर्राष्ट्रीय सहयोग में निवेश बढ़ाने का आह्वान किया।
इसरो द्वारा आयोजित कार्यशाला एजेंसी के अंतर्राष्ट्रीय क्षुद्रग्रह दिवस अवलोकन का हिस्सा थी। अंतर्राष्ट्रीय क्षुद्रग्रह दिवस 30 जून को विश्व स्तर पर मनाया जाता है, जो रूस के साइबेरिया में 1908 में हुए विनाशकारी तुंगुस्का प्रभाव की याद में मनाया जाता है।
कार्यशाला का उद्देश्य क्षुद्रग्रहों और अन्य खगोलीय पिंडों से हमारे ग्रह को होने वाले संभावित खतरों के बारे में जागरूकता बढ़ाना था।
कार्यशाला में जापान एयरोस्पेस एक्सप्लोरेशन एजेंसी (जेएएक्सए) और यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी (ईएसए) के विशेषज्ञ जेएएक्सए के हायाबुसा-2 क्षुद्रग्रह मिशन, ईएसए के चल रहे ग्रह रक्षा प्रयासों, तथा क्षुद्रग्रह प्रभाव खतरों से निपटने में अंतर्राष्ट्रीय क्षुद्रग्रह चेतावनी नेटवर्क (आईएडब्ल्यूएन) और अंतरिक्ष मिशन योजना सलाहकार समूह (एसएमपीएजी) जैसे अंतर्राष्ट्रीय संगठनों की महत्वपूर्ण भूमिकाओं सहित विभिन्न विषयों पर तकनीकी प्रस्तुतियां देंगे।
इस अवसर पर बोलते हुए सोमनाथ ने दोहराया कि इसरो दिसंबर 2024 तक पहला मानवरहित गगनयान मिशन की योजना बना रहा है और कहा कि चंद्रयान-4 और अन्य प्रस्तावित मिशनों पर काम प्रगति पर है।



LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

spot_img