पूर्णिया में खाएं घर का बना आलू और सत्तू का पराठा- News18 हिंदी

0
1

[ad_1]

विक्रम कुमार झा/पूर्णिया. आप भी आलू और सत्तू पराठा खाने के शौकीन हैं? और बाजार में घर जैसा स्वाद चाहते हैं तो यहां आएं. पूर्णिया के टैक्सी स्टैंड चौक पास शिक्षा भवन पूर्णिया है. इसके सामने चौराहे पर यह दुकान लगती है. युवा 9वीं तक पढ़ने के बाद अब रोजगार के लिए लोगों को आलू और सत्तू पराठा घरेलू अंदाज में स्वाद खिलाते हैं. ग्राहक घरेलू स्वाद का आलू और सत्तू पराठा खाकर खुश हो जाते हैं. उनके बने सत्तू और आलू पराठे की खूब तारीफ करते हैं.आलू के पराठे और सत्तू के पराठे बनाकर बेचने वाले दुकानदार मिट्ठू कुमार यादव कहते हैं कि वह 9 वीं तक पढ़ाई करने के बाद परिवारिक हालात खराब रहने से उन्हें दिक्कत होने लगी और रोजगार की तलाश में भटकने के बाद पिछले 9 महीने पहले स्टार्टअप शुरू किया.

इसके बाद दुकान शिक्षा भवन पूर्णिया टैक्सी स्टैंड चौक के सामने लगाते हैं. ग्राहक अपनी पारी का इंतजार कर उनके यहां घरेलू अंदाज में बने आलू के पराठे और सत्तू का पराठा का स्वाद लेते हैं. रोजाना 8 से 10 किलो आटा खपत कर लेते हैं, हालांकि अभी रमजान और होली पर्व आ जाने से उनकी दुकान पर दुकानदारी थोड़ी कम हो गई है, लेकिन आने वाले कुछ दिनों में फिर उनकी दुकान अच्छी खासी चलेगी.

आलू और सत्तू के पराठे ऐसे करते हैं तैयार, स्वाद में बेजोड़
दुकानदार मिट्ठू कुमार यादव कहते हैं कि होटल और बड़े-बड़े रेस्टोरेंट या दुकानों में लोगों को घरेलू अंदाज में खाने का स्वाद नहीं मिल पाता है. इसलिए वह घरेलू अंदाज में शुद्ध सामान और शुद्ध तेल का उपयोग कर आलू और सत्तू के पराठे बनाते हैं. ग्राहक खाकर खूब तारीफ करते हैं. उन्होंने कहा आलू पराठे को बनाने में वह आटा के साथ-साथ आलू के बने भरता का प्रयोग करते हैं. सत्तू के पराठे बनाने के लिए वह आटा के अंदर सत्तू का मसाला बनाकर भरते हैं.

फिर उसे बेलन पर बेलकर तवा पर पकाते हैं. इसके बाद उनका बिल्कुल घरेलू अंदाज में पराठे का स्वाद बनकर तैयार हो जाता है. ग्राहकों को 30 रुपए प्रति प्लेट दो पीस आलू पराठे, सब्जी, अचार और दही लोगों को खिलाते हैं. उन्होंने कहा उनकी दुकान सुबह के 9:00 बजे से लेकर शाम के 5:00 तक इसी जगह पर खुली रहती है. आने जाने वाले ग्राहक रुक कर दुकान पर आलू के बने पराठे सब्जी अचार दही और सत्तू के पराठे का खूब मजा लेते हैं.

टैग: बिहार के समाचार, खाना, स्थानीय18

[ad_2]

Leave a reply