HomeENTERTAINMENTSजुनैद खान अभिनीत यह फिल्म एक धर्मगुरु के कुकर्मों को उजागर करती...

जुनैद खान अभिनीत यह फिल्म एक धर्मगुरु के कुकर्मों को उजागर करती है


महाराज जुनैद खान की पहली फिल्म है।

महाराज जुनैद खान की पहली फिल्म है।

फिल्म महाराज हमें लगभग ढाई सौ साल पहले के समय में ले जाती है।

जुनैद खान की पहली फिल्म महाराज ने नेटफ्लिक्स पर 22 देशों की सूची में शीर्ष 10 देशों में जगह बनाई है। कहानी वास्तविक जीवन के ऐतिहासिक कोर्ट केस को उजागर करती है और धर्म के नाम पर महिलाओं का शोषण करने वाले बाबाओं की कठोर सच्चाई को उजागर करती है। फिल्म महाराज हमें लगभग ढाई सौ साल पहले के समय में ले जाती है, जो एक वैष्णव धार्मिक नेता के बारे में है, जो वैष्णव समुदाय को एकजुट कर रहा है। बाबा अपनी बहनों और बेटियों का इस्तेमाल चरण सेवा के लिए करता है। उसका समय न केवल अविवाहित लड़कियों के साथ शारीरिक संबंध बनाने में बीतता है, बल्कि अपने भक्तों के सामने उनका प्रदर्शन भी करता है। उसका विरोध करने के बजाय, लोग इस बात से धन्य महसूस करते हैं कि महाराज ने सेवा के इस चरण के लिए सैकड़ों में से उनकी बेटी को चुना।

दूसरी ओर जुनैद खान की भूमिका निभाने वाले करसनदास मूलजी एक सुधारक और अख़बारों में लिखने वाले पत्रकार थे, जिन्होंने सेवा की इस बहुत पुरानी परंपरा के खिलाफ़ भी अभियान चलाया था। जब पहले से मौजूद अख़बारों ने महाराज के खिलाफ़ सबूतों के अभाव में उनके लेख छापने से मना कर दिया, तो करसनदास ने अपना खुद का अख़बार छापना शुरू कर दिया।

यह फिल्म सौरभ शाह की किताब महाराज पर आधारित है, जिसमें फिल्म में मौजूद घटनाओं को दर्शाया गया है। फिल्म में जदुनाथ महाराज के पाखंड को दिखाया गया है, जिसमें वे लड़कियों के हाथ के अंगूठे दबाकर अपनी मंशा जाहिर करते हैं। यह हमारे देश की तथाकथित परंपरा है, जिसमें महिलाओं को प्रताड़ित किया जाता है और धर्म के नाम पर उनका शोषण किया जाता है।

फिल्म ने अपनी कहानी और सामाजिक संदेश से दर्शकों को प्रभावित किया, जिसमें दर्शाया गया कि पूजा स्थल और धर्म लोगों के लिए अच्छे हैं। खुद को भगवान कहने वाले लोगों की पूजा करने के बजाय, हमें सीधे ईश्वर पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। यह भी सुझाव देता है कि हमें परंपराओं का आँख मूंदकर पालन नहीं करना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read

spot_img