अहिल्या बाई इस भाई को हर साल बांधती थी राखी, MP के इस गांव में है दोनों के रिश्ते की निशानी

0
5


दीपक पाण्डेय/खरगोन. आप सभी जानते होंगे कि होलकर स्टेट की महारानी देवी अहिल्या बाई होलकर अपने माता-पिता की इकलौती संतान थी, लेकिन क्या आपको पता है कि उनके एक भाई भी थे?. अगर नही, तो आज हम आपको उसी भाई के बारे में बताने जा रहे है. जिसे वें हर साल राखी बांधती थी.

सन् 1792 में अहिल्या बाई ने मध्यप्रदेश के खरगोन जिले के मुख्यालय से करीब 35 किलोमीटर दूर छोटी कसरावद में रहने वाले बोंदरसिंह राठौड़ को अपने भाई के रूप में स्वीकार किया था. तीन साल तक वे भाई-बहन के रिश्ते में बंधे रहे और उन्होंने बोंदरसिंह को राखी भी बांधती रही. अहिल्या बाई ने बोंदरसिंह को तोहफे में एक घर भी बनाकर प्रस्तुत किया था, जिसमें उनका परिवार रहता था. लेकिन 8 अगस्त 1795 को अहिल्या बाई के निधन के साथ ही यह भाई-बहन का आपसी रिश्ता भी खत्म हो गया. लेकिन इतने वर्षो बाद भी भाई-बहन के रिश्ते की यह निशानी \”घर\” जिसे अहिल्या बाई ने बोंदरसिंह के लिए बनवाया था, वो घर आज भी इसी गांव में उसी स्वरूप में मौजूद है. यहीं नहीं बोंदरसिंह के वंशज अभी भी इस घर में रहते है.

राजेश सिंह राठौड़ के वंशज आज भी है वहां
बोंदरसिंह के वंशज राजेश सिंह राठौड़ बताते हैं कि इस मकान में अब उनके छोटे भाई का परिवार निवास करता है. इसी मकान से जुड़कर सामने बने मकान में वे स्वयं अपने परिवार के साथ रहते हैं. राजेश बताते हैं कि जिस मकान में वे अब रहते हैं, पहले उसे जेलखाना के रूप में इस्तेमाल किया जाता था. मकान की नींव पर पत्थरों की अद्वितीय नक्काशीदार दरवाजे लगे हुए हैं, और मुख्य द्वार पर मां अहिल्या देवी के प्रवेश द्वार की स्थिति है.

टैग: ताज़ा हिन्दी समाचार, स्थानीय18, मध्य प्रदेश समाचार

Leave a reply

More News